Friday, 16 February 2018

Ministry of Railways directs Zonal Railways to discontinue pasting reservation charts on train coaches for 6 months starting from 1st March, 2018

Ministry of Railways has directed Zonal Railways to discontinue pasting of reservation charts on the reserved coaches of all trains at all erstwhile A1, A & B category stations as a pilot project for 6 months starting from 1st March, 2018.

Physical/digital charts will continue to be displayed at the platform of the train. At those stations where electronic charts display plasma have been installed and the same are functioning properly, physical reservation charts at such platforms can be stopped.

Earlier, pasting of reservation charts on the reserved coaches of all trains was discontinued at New Delhi, Hazrat Nizamuddin, Mumbai Central, Chennai Central, Howrah and Sealdah Stations of Indian Railways on experimental basis for a period of 3 months.


Courtesy: pib.nic.in

Pareeksha pe Charcha - PM's interactive session with students

The Prime Minister, Shri Narendra Modi, today held a Town Hall session with students on subjects related to examinations. He took questions from students at the event venue in Talkatora Stadium in New Delhi. Students also asked him questions through various television news channels, the Narendra Modi Mobile App, and the MyGov platform.

Beginning the conversation, the Prime Minister said that he had come to the Town Hall session as a friend of the students, and their parents and family. He said that he was speaking to as many as 10 crore people across the country, through various platforms. He acknowledged his own teachers, who had instilled in him the values that enable him to keep the student in him alive till today. He exhorted everyone to keep the student alive in them.

In the course of the event which lasted about two hours, the Prime Minister took questions on a range of subjects, including nervousness, anxiety, concentration, peer pressure, parents’ expectations, and the role of teachers. His answers were embellished with wit, humour and a number of different illustrative examples.

He quoted Swami Vivekananda to invoke the importance of self-confidence, to deal with examination stress and anxiety. He gave the example of the Canadian snowboarder Mark McMorris, who won a bronze medal in the ongoing Winter Olympic Games, just eleven months after suffering a life threatening injury.

On the subject of concentration, the Prime Minister recalled the great cricketer Sachin Tendulkar’s advice on the radio programme Mann Ki Baat. Tendulkar had said that he only focuses on the ball that he is playing at present, and does not worry about the past or future. The Prime Minister also said that Yoga can help in improving concentration.

On the subject of peer pressure, the Prime Minister spoke of the importance of “Anuspardha” (competing with oneself), rather than “Pratispardha” (competing with others). He said one should only try to do better than what one had achieved earlier. 

Noting that every parent sacrifices for his or her child, the Prime Minister urged parents not to make the achievements of their child a matter of social prestige. He said every child is blessed with unique talents.

The Prime Minister explained the significance of both the Intellectual Quotient, and the Emotional Quotient, in the life of a student.

On time management, the Prime Minister said that for students, one time-table or a schedule cannot be appropriate for the full year. It is essential to be flexible and make best use of one’s time, he added.  

Courtesy: pib.nic.in

Detection most effective deterrent against crime: Shri Rajnath Singh

Union Home Minister addresses the 71st Raising Day Parade of Delhi Police

Union Home Minister Shri Rajnath Singh has said detection is the most effective deterrent against crime. Addressing the 71st Raising Day Parade of Delhi Police here today, he directed the Delhi Police top brass to update the crime control strategy. Calling upon the police force to acquaint themselves with the latest technology, Shri Rajnath Singh said forensics is a key factor in criminal investigation. The Government is adding more forensic laboratories in the national capital and with the Crime and Criminal Tracking Network & Systems (CCTNS) soon to be made fully operational, it will add to the capabilities of the Delhi Police, he added.

The Union Home Minister lauded the Delhi Police for their recent success in nabbing the wanted terrorist Junaid who had been eluding arrest for more than a decade and the rescue of a kidnapped child. He appreciated the community policing and Intelligent Traffic Management System among other success stories of the Delhi Police. Having given away awards for the Best Police Stations, Shri Rajnath Singh said the grading of Police Stations, as recommended during the Annual DGPs Conference, will result in healthy competition.

Citing the example of how Police in the Latin American city of Bogota, capital of Columbia, once known as the murder capital, brought a turn around and made the city safe, Shri Rajnath Singh said with effective strategy crime graph can be checked almost 70% even in metros like Delhi and Mumbai. No criminal dare escape the police net, he added.

The Union Home Minister said as Delhi is the capital of India, Delhi Police is seen by our countryman not just as a State Police but Police of the entire nation. Given the fact that it is seen as a police of entire country, people have lot of expectation from the Delhi Police. This requires Delhi Police to put extra effort and they need to be extra alert and cautious, he added.

On the occasion, the Union Home Minister gave away police medals and took salute of an impressive Parade. He announced a Rupees 5 crore contribution towards the Martyrs’ Fund of the Delhi Police.

Courtesy: pib.nic.in

Shri Ram Vilas Paswan kicks off Swachhta Pakhwada in his Ministry scheduled from 16th to 28th February 2018

Shri Paswan administers the Swachhta pledge to officials of the Department of Food & Public Distribution

Shri Ram Vilas Paswan, Union Minister of Consumer Affairs, Food and Public Distribution swept an area outside Krishi Bhawan in New Delhi today. Shri Paswan also administered the Swachhta pledge to officials of the Department of Food & Public Distribution on the first day of the Department’s Swachhta Pakhwada scheduled from 16th to 28th February 2018. The Union Minister appealed to officials of the Department of Food & Public Distribution to wholeheartedly join the countrywide cleanliness drive. Shri Paswan also appealed to officials of his ministry to join the campaign and keep their homes, offices, neighbourhoods, towns and cities clean. The Minister of State for Consumer Affairs, Food and Consumer Affairs, Shri C.R. Chaudhary, Shri Ravikant, the Secretary, Department of Food and Public Distribution and other senior officials were also present on the occasion.

The Pakhwada is being organized to create awareness amongst officials as well as the general public on the importance of the need for sustained maintenance of cleanliness and hygiene. It is in support of the larger effort of the Government of India and the States to bring about behavior change in the public towards eradication of unhygienic practices related to personal and environmental hygiene.

During the Pakhwada, the Department and its associated offices shall be taking up various activities to promote Swachchta such as improvement in the overall sanitary conditions of the office spaces and public spaces around it, provision of appropriate toilets, drinking water supply, etc. in the work spaces, awareness generation on quality of food grains etc. Message of Swachchta shall be communicated to the public through cleaning of high footfall areas, public spaces, public processions, talks, street plays, slogans, etc. Select schools and localities in Delhi shall be visited for sensitizing the students and residents of the areas and also for taking up cleanliness drives. The cleanest section running trophy instituted in the Department shall also be awarded. During the Pakhwada, plantation drive shall be taken up by the associated organizations. Weeding out of old records, disposal of old unused office fixtures shall also be ensured. Officers of the Department and its associated offices have been encouraged to take up cleanliness drives in and around their residential areas also.

The Food & Civil Supplies Departments of State Governments have been requested to spread the message of Swachhta in their respective areas during the Pakhwada. It has been suggested to them to take up cleanliness drive in the Fair Price Shops and their surroundings along with displaying banners and slogans etc. on Swachhta.

For the first time FCI, CWC, CRWC have instituted a trophy for the cleanest foodgrain depot at the regional and also at the national level. The organizations have also amended their inspection guidelines to ensure that inspecting officers shall also look into the aspects of cleanliness and hygiene in the office/depot being inspected. Sugar mills and oil factories have also been requested through their respective associations to undertake cleanliness drive in their premises and spread the message of Swachhta during the Pakhwada.

Courtesy: pib.nic.in

Text of PM’s address at the inauguration of World Sustainable Development Summit (WSDS 2018)

Distinguished dignitaries on the dais,

Guests from India and abroad,

Ladies and Gentlemen

I am very happy to be hereat the inauguration of the World Sustainable Development Summit.To those joining us from abroad:Welcome to India.Welcome to Delhi.

On the side lines of the Summit,I hope you shall have some timeto see the history and splendor of this city. This summitis a re-inforcement of India’s commitment to a sustainable planet,for ourselves and for future generations.

As a nation,we are proud of our long history and tradition of harmonious co-existencebetween man and nature.Respect for nature is an integral partof our value system.

Our traditional practicescontribute to a sustainable lifestyle.Our goal is to be ableto liveup to our ancient textswhich say, “Keep pure For the Earth is our MotherAnd we are her children”.

One of the most ancient scriptures, the Atharva Veda, spells out

-माताभूमि: पुत्रोहंपृथिव्या:

This is the ideal we seek to live through our actions.We believethat all resources and all wealthbelongs to Nature and the Almighty.We are just the trustees or managers of this wealth. Mahatma Gandhi too, advocated this trusteeship philosophy.

Recently, National Geographic’s Greendex Report of 2014 which assesses the environmental sustainability of consumer choice,ranked India at the topfor its greenest consumption pattern.Over the years,the World Sustainable Development Summit has spread consciousnes about our actionsto preserve the purity of Mother Earthto all parts of the world.

This common desirewas on displayat COP-21 in Paris in 2015.Nations took a standto come togetherand work towards the common cause of sustaining our planet. As the world committedto bring about change,so did we.While the world was discussing'Inconvenient Truth’,we translated it into ‘Convenient Action’. India believes in growthbut is also committedto protecting the environment.

Friends, it was with this thoughtthat India,along with France, initiated the International Solar Alliance.It already has 121 members.It is perhaps,the single most important global achievementafter Paris.As part of the Nationally Determined Contributions. India committed to reducing33 to 35 percentof emission intensityof its GDPduring 2005 to 2030.

Our goal of creating a carbon sink of 2.5 to 3 billion tonnes of carbon dioxide equivalent by 2030had once seemed difficult to many.Yetwe continue our steady progresson that path.According to the UNEP Gap Report,India is on track to meet its Copenhagen Pledge of reducing the emissions intensityof its GDPby 20 to 25 percent over 2005 levelsby 2020.

We are also on track to meet the 2030 Nationally Determined Contribution. The UN Sustainable Development Goalsput us on the pathof equality,equityand climate justice.While we are doingeverything that is required of us,we expect that others also join in to fulfil their commitmentsbased on Common but Differentiated Responsibilityand equity.

We must also stress on climate justice for all vulnerable populations.We in Indiaare focused on Ease of living –through Good Governance,Sustainable Livelihood and through Cleaner Environment.The campaign for clean Indiahas moved from the streets of Delhi to every nook and corner of the country.Cleanliness leads to better hygiene,better health,better working conditionsand there-by better income and life.

We have also launched a massive campaignto ensure that our farmersconvert agricultural waste to valuable nutrients, instead of burning them.

We are also happy to host the 2018 World Environment Dayto highlight our commitment and our continuing partnershipto make the world a cleaner place.

We also recognize the need to tackle the issue of water availability,which is becoming a major challenge.That is whywe have introduced the massive Namami Gange initiative. This programme,which has already started giving results,will soon revive the Ganga,our most precious river.

Our country is primarily agrarian.Continued availability of water for agricultureis of importance.The Pradhan Mantri Krishi Sinchayee Yojanahas been launched to ensurethat no farm goes without water.Our motto is ‘More crop, per drop.'

India has a fairly decent report card on bio-diversity conservation.With only 2.4 percent of the world’s land area,India harbours 7-8 percent of the recorded species diversity,while supporting nearly 18 percent of human population.

India has gained international recognitionfor 10 out of its 18 Biosphere Reservesunder UNESCO’s Man and Biosphere programme.This is a testimony that our development is greenand our wildlife is robust.



Friends,



India has always believed in making the benefits of good governance reach everyone.

Our mission of Sabka Saath Sabka Vikas is an extension of this philosophy.Through this philosophy, we are ensuringthat some of our most deprived areas experience social and economic progresson par with others.

In this day and age,access to electricity and clean cooking solutionsare basicsthat every person must be provided with.These form the coreof any country’s economic development.

Yet,there are many in Indiaand outsidewho are strugglingin the absence of these solutions.People are forced to use un-healthy cooking techniques that cause indoor air pollution. I have been told that the smoke in a rural kitchenresulting from this is a serious health hazard.Yet,few talk about it.Keeping this in view we have launched two far-reaching initiatives- Ujjwala and Saubhagya.From the time that they were launched,these schemes have already impacted the lives of millions.With these twin programmes,the time when mothers would fetch dry wood from forestsor prepare cow dung cakes,to feed their familieswill be gone soon.Soon too,the images of traditional firewood stoves will only remain a picturein our social history texts.

Similarly,through Saubhagya Scheme,we are working towards electrifying every

house-holdin this country,mostly by the end of this year.We recognizethat only a healthy nationcan lead the process of development.Keeping this in mind,we have launchedthe world’s largest government funded health scheme.The programme will support hundred million poor families.

Our ‘Housing for All’and ‘Power for All ’initiativesalso stem from this same agendaof providing the basic amenities of lifeto those who cannot afford them.

Friends!

You know that Indiais one sixth of the global community.Our development needs are enormous.Our poverty or prosperity will have direct impact on the global poverty or prosperity.People in India have waited too long for access to modern amenities and means of development.

We have committed to complete this tasksooner than anticipated.However,we have also saidthat we will do all this in a cleaner and greener way.To give you just a few examples.We are a young Nation.To give employment to our youth,we have decidedto make India a global manufacturing hub.We have launchedthe Make in India campaignfor this.However, at the same time, we are insisting on Zero defect and zero effect manufacturing.

As the world’s fastest growing major economy,our energy needs are immense. However,we have planned to draw One 175 Giga-Watts of energy from renewable sources by 2022.This includes 100 Giga-Watts from Solar Energyand another 75Giga-Watts from Wind and other sources.We have added more than14 Giga-Wattsto solar energy generationwhich was just about three Giga-Wattsthree years back.

With this,we are already the fifth largest producer of solar energyin the world.Not only this,we are also the sixth largest producerof renewable energy.

With growing urbanizationour transportation needs are growing too.But we are focusingon mass transportation systemsespecially metro rail systems.Even for cargo movement to long distances,we have started workingon national water-way systems.Each of our statesis preparing an action planagainst climate change.

This will ensurethat while we are working towards conserving our environment,we also

safe-guard our most vulnerable areas.One of our largest states,Maharashtra,has already adopted a plan of its ownin this direction.We intend to achieve each of our sustainable development objectiveson our own,but collaboration remains the key.

Collaboration between governments,between industries,and between people.The developed worldcan help us achieve them faster.

Successful climate action needs access to financial resources and technology.Technology can help countries like Indiadevelop sustainablyand enable the poor to benefit from it.

Friends.

We are here todayto act upon the beliefthat we as humanscan make a difference to this planet.We need to understand that this planet,our Mother Earth,is one.And so, we should rise above our trivial differences of race, religion, and power, and act as one to save her.

With our deep rooted philosophyof co-existence with nature and co-existence with each other, we invite you to join us in the journey of making this planet a more safe and sustainable place.

I wish the World Sustainable Development Summit a great success.

Thank You

Courtesy: pib.nic.in

Ministry of Railways Announces one of the World’s Largest Recruitment Drive

Online Applications are invited around 90,000 posts in Group C Level I (Erstwhile Group D) like Track maintainer, Points man, Helper, Gateman, Porter and Group C Level II categories like Assistant Loco Pilots (ALP), Technicians (Fitter, Crane Driver, Blacksmith, Carpenter) through Railway Recruitment Boards websites

Largest Computer based test in the World is scheduled tentatively in April – May 2018

Educational Qualifications for various posts are class Xth passed & Industrial Training Institute certificate (ITI)

Selection procedure only includes Computer Based Test without Interviews

Ministry of Railways has announced one of the world’s largest recruitment processes for 89409 posts in Group C Level I (Erstwhile Group D) & Level II Categories. Online applications have been invited for the Group C Level II posts like Assistant Loco Pilots, Technicians (Fitter, Crane Driver, Blacksmith, and Carpenter) and Group C Level I (Erstwhile Group D) posts like Track maintainer, Points man, Helper, Gateman, Porter. This recruitment drive is open for candidates who have passed Class Xth & ITI for Group C Level I posts & Class Xth & ITI or diploma in engineering or a graduation in engineering for Group C Level II posts like Assistant Loco Pilots, Technicians and aspire to join Indian Railways.

Ministry of Railways has published a notification no. CEN 01/2018 for Group C Level II Categories posts for the candidates in the age group of 18-28 years who have passed Class X and have an industrial training certificate (ITI) or diploma in engineering or a graduation in engineering.

The notification no. CEN 02/2018 about Group C Level I (Erstwhile Group D) posts for candidates in the age group of 18-31 years and who have passed Class X and have an industrial training certificate (ITI). The notifications have already been uploaded on RRB Websites. The link of the website is as follows:


For Group C level II posts, the monthly salary along with allowances as per the Seventh Pay Commission (level 2) Scale (19,900-63,200) will be given to the selected candidates. For Group C Level I (Erstwhile Group D) posts, the monthly salary along with allowances as per the Seventh Pay Commission (level 1) Scale (18,000- 56,900) will be given to the selected candidates. Applications for Group C Level II posts will be accepted till 5th March 2018 & for Group C Level I (Erstwhile Group D) posts will be accepted till 12th March 2018.

Free Sleeper Class Railway Pass facility shall be available for SC/ST candidates for Computer Based Aptitude Tests, Physical Efficiency Tests, Document verification during the recruitment stages

IMPORTANT DATES:


Railway Recruitment Group C Level II Notification
February 3, 2018
Start of Railway Recruitment Group C Level II 2018 Online Application
February 3, 2018
Application Closes
March 5, 2018
Computer Based Aptitude Test (CBT) tentatively
April- May, 2018
Railway Recruitment Group C Level I 2018 Notification
February 10, 2018
Start of Railway Recruitment Group C Level I 2018 Online Application
February 10, 2018
Railway Recruitment Group C Level I 2018 Application Form Closes
March 12, 2018
Computer Based Aptitude Test (CBT) tentatively
During April and May, 2018



VACANCY DETAILS FOR GROUP C Level II POSTS


VACANCY DETAILS FOR GROUP C Level I (Erstwhile Group D) POSTS

Courtesy: pib.nic.in

Thursday, 15 February 2018

Text of PM’s speech at the dedication of several development projects to the nation in Itanagar, Arunachal Pradesh on 15.02.2018

विशाल संख्‍या में पधारे मेरे प्‍यारे भाइयो और बहनों।

जब हिन्‍दुस्‍तान को उगते सूरज की ओर देखना होता है, सूर्योदय को देखना होता है; तो पूरे हिन्‍दुस्‍तान को सबसे पहले अरुणाचल की तरफ अपना मुंह करना पड़ता है। हमारा पूरा देश, सवा सौ करोड़ देशवासी- सूर्योदय देखना है तो अरुणाचल की तरफ निगाह किए बिना सूर्योदय देख नहीं पाते। और जिस अरुणाचल से अंधेरा छंटता है, प्रकाश फैलता है; आने वाले दिनों में भी यहां विकास का ऐसा प्रकाश फैलेगा जो भारत को रोशन करने में काम आएगा।

अरुणाचल मुझे कई बार आने का सौभाग्‍य मिला है। जब संगठन का काम करता था तब भी आया, गुजरात में मुख्‍यमंत्री रहा तब भी आया और प्रधानमंत्री बनने के बाद आज दूसरी बार आप सबके बीच, आपके दर्शन करने का मुझे अवसर मिला है।

अरुणाचल एक ऐसा प्रदेश है कि अगर आप पूरे हिन्‍दुस्‍तान का भ्रमण करके आएं, हफ्ते भर भ्रमण करके आएं और अरुणाचल में एक दिन भ्रमण करें- पूरे हफ्ते भर में पूरे हिन्‍दुस्‍तान में जितनी बार आप जय हिंद सुनोगे, उससे ज्‍यादा बार जय हिंद अरुणाचल में एक दिन में सुनने को मिलेगा। यानी शायद हिन्‍दुस्‍तान में ऐसी परम्‍परा अरुणाचल प्रदेश में मिलेगी कि जहां पर एक-दूसरे को greet करने के लिए समाज जीवन का स्‍वभाव जय हिंद से शुरू हो गया है और जय हिंद से जुड़ गया है। रग-रग में भरी हुई देशभक्ति, देश के प्रति प्‍यार; ये अपने-आप में अरुणाचल वासियों ने; ये तपस्‍या करके इसको अपने रग-रग का हिस्‍सा बनाया है, कण-कण का हिस्‍सा बनाया है।

जिस प्रकार से north-east में सबसे ज्‍यादा हिन्‍दी बोलना-समझने का अगर कोई प्रदेश है तो मेरा अरुणाचल प्रदेश है। और मैं तो मुझे हैरानी हो रही है, इन दिनों में north-east में मेरा दौरा होता रहता है, पहले तो आपको जहां मालूम है प्रधानमंत्रियों को इतना काम हुआ करता था वो यहां तक आ नहीं पाते थे। और मैं एक ऐसा प्रधानमंत्री हूं कि आपके बीच आए बिना रह नहीं पाता हूं। लेकिन north-east में इन दिनों मैं जाता हूं तो मैं देख रहा हूं कि सब नौजवान बैनर लेकर खड़े हुए नजर आते हैं और मांग करते हैं हमें हिन्‍दी सीखना है, हमें हिन्‍दी सिखाओ। ये, ये एक बड़ा revolution है जी। मेरे देश के लोगों से उनकी भाषा में बातचीत कर पाऊं, ये जो ललक है और युवा पीढ़ी में है; ये अपने आप में बहुत बड़ी ताकत ले करके आई है।

आज मुझे यहां तीन कार्यक्रमों का अवसर मिला है। भारत सरकार के बजट से, भारत सरकार की योजना से, डोनर मंत्रालय के माध्‍यम से ये brand सौगात अरुणाचल की जनता को मिली है। Secretariat का काम तो प्रारंभ हो चुका। कभी-कभी हम अखबारों में देखते हैं ब्रिज बन जाता है लेकिन नेता को समय नहीं, इसलिए ब्रिज का उद्घाटन होता नहीं और महीनों तक पड़ा रहता है। रोड़ बन जाता है, नेता को समय नहीं; रोड़ वैसा का वैसा ही बना पड़ा रहता है।

हमने आ करके एक नया कल्‍चर शुरू किया। हमने नया कल्‍चर ये शुरू किया कि आप नेता का इंतजार मत करो, प्रधानमंत्री का इंतजार मत करो। अगर योजना पूरी हो चुकी है, उपयोग करना शुरू कर दो; जब आने का अवसर मिलेगा उस दिन लोकार्पण कर देंगे, काम रुकना नहीं चाहिए। और मुझे प्रेमा जी के प्रति अभिनंदन करता हूं कि उन्‍होंने काम शुरू कर दिया और लोकार्पण का काम आज हो रहा है। पैसे कैसे बच सकते हैं? पैसों का कैसे सदुपयोग हो सकता है? इस बात को हम भली-भांति से छोटे से निर्णय से भी समझ सकते हैं, देख सकते हैं।

अब सरकार ज‍ब बिखरी-बिखरी होती है, कोई department यहां, कोई वहां, कोई इधर बैठा है कोई उधर बैठा। मकान भी पुराना, जो अफसर बैठता है वो भी सोचता है जल्‍दी घर कैसे जाऊं। अगर environment ठीक होता है, दफ्तर का environment ठीक होता है तो उसका work culture पर भी एक साकारात्‍मक प्रभाव होता है। जितनी सफाई होती है, फाइलें ढंग से रखी हुई हैं; वरना कभी तो क्‍या होता है अफसर जब दफ्तर जाता है तो पहले कुर्सी को पट-पट करता है ताकि मिट्टी उड़ जाए, और फिर बैठता है। लेकिन उसको मालूम नहीं वे ऐसे उड़ाता है, बाद में वो वहीं पड़ती है। लेकिन एक अच्‍छा दफ्तर रहने के कारण और एक ही कैम्‍पस में सारे यूनिट आने के कारण अब गांव से कोई व्‍यक्ति आता है, secretariat में उसको काम है तो उसको बेचारे को, वो कहीं नहीं कहता कि इधर नहीं, दूर जाओ तो उसको वहां से दो किलोमीटर दूर जाना पड़ेगा। फिर वहां जाएगा, कोई कहेगा यहां नहीं, फिर दो किलोमीटर दूर तीसरे दफ्तर में जाना पड़ेगा। अब वो यहां आया किसी गलत department में पहुंच गया तो वो कहेगा कि बाबूजी आप आए हैं अच्‍छी बात है, लेकिन ये बगल वाले कमरे में चले जाइए। सामान्‍य मानवी को भी इस व्‍यवस्‍था के कारण बहुत सुविधा होगी।

दूसरा, सरकार सायलों में नहीं चल सकती। सब मिल-जुलकर एक दिशा में चलते हैं तभी सरकार परिणामकारी बनती है। लेकिन अगर technical रूप में coordination होता रहता है तो उसकी ताकत थोड़ी कम होती है, लेकिन अगर सहज रूप से coordination होता है तो उसकी ताकत बहुत ज्‍यादा होती है। एक कैम्‍पस में सब दफ्तर होते हैं तो सहज रूप से मिलना-जुलना होता है, कैन्‍टीन में भी अफसर एक साथ चले जाते हैं, एक-दूसरे की समस्‍या की चर्चा कर-करके समाधान कर लेते हैं। यानी काम की निर्णय प्रक्रिया में coordination बढ़ता है, delivery system तेज हो जाता है, निर्णय प्रक्रिया बहुत ही सरल हो जाती है। और इसलिए ये नए secretariat के कारण अरुणाचल के लोगों के सामान्‍य मानवी के जीवन की आशा-आकांक्षाओं की पूर्ति के लिए...। उसी प्रकार से आज एक महत्‍वपूर्ण काम, और वो मैं अपने-आप में गर्व समझता हूं। श्रीमान Dorjee Khandu State Convention Centre Itanagar का आज लोकार्पण करते हुए। ये सिर्फ एक इमारत का लोकार्पण नहीं है। ये एक प्रकार से अरुणाचल के सपनों का एक जीता-जागता ऊर्जा केंद्र बन सकता है। एक ऐसी जगह जहां conferences के लिए सुविधा होगी, cultural activity के लिए सुविधा होगी और अगर हम अरुणाचल में tourism बढ़ाना चाहते हैं तो मैं भी भारत सरकार की भिन्‍न-भिन्‍न कम्‍पनियों को कहूंगा कि अब वहां convention centre बना है, आपकी general board की मीटिंग जाओ अरुणाचल में करो। मैं प्राइवेट इन लोगों को बताऊंगा कि भई ठीक है ये दिल्‍ली-मुम्‍बई में बहुत कर लिया, जरा जाइए तो कितना प्‍यारा मेरा प्रदेश है अरुणाचल, जरा उगते सूरज को वहां जा करके देखिए। मैं लोगों को धक्‍का लगाऊंगा। और इतनी बड़ी मात्रा में लोगों का आना-जाना शुरू होगा। तो आजकल tourism का एक क्षेत्र होता है conference tourism. और ऐसी व्‍यवस्‍था अगर बनती है तब सब लोगों का आना बड़ा स्‍वाभाविक होता है।

हम लोगों ने सरकार में भी एक नया प्रयोग शुरू किया है। हम सरकार दिल्‍ली से 70 साल तक चली है और लोग दिल्‍ली की तरफ देखते थे। हमने आकर सरकार को हिन्‍दुस्‍तान के हर कोने में ले जाने का बीड़ा उठाया है। अब सरकार दिल्‍ली से नहीं, हिन्‍दुस्‍तान के हर कोने को लगना चाहिए सरकार वो चला रहे हैं।

हमने हमारा एक agriculture summit किया तो सिक्कम में किया, पूरे देश के मंत्रियों को बुलाया। हमने कहा जरा देखो, सिक्किम देखो, कैसे organic farming का काम हुआ है। आने वाले दिनों में North-East के अलग-अलग राज्‍यों में भारत सरकार के अलग-अलग विभागों के मंत्रालयों की बड़ी-बड़ी मीटिंग बारी-बारी से अलग-अलग जगह पर हों। North-East Council की मीटिंग में शायद मोरारजी भाई देसाई, आखिरी प्रधानमंत्री आए थे। उसके बाद किसी को फुरसत ही नहीं मिली, बहुत busy होते हैं ना PM. लेकिन मैं आपके लिए ही तो आया हूं, आपके कारण आया हूं और आपकी खातिर आया हूं।

और इसलिए North-East Council की मीटिंग में मैं रहा, विस्‍तार से चर्चाएं कीं। इतना ही नहीं, हमने पूरी दिल्‍ली सरकार में से मंत्रियों को मैंने आदेश किया कि बारी-बारी से हर मंत्री अपने स्‍टाफ को ले करके North-East के अलग-अलग राज्‍यों में जाएंगे। महीने में कोई सप्‍ताह ऐसा नहीं होना चाहिए कि भारत सरकार को कोई न कोई मंत्री, North-East के किसी न किसी राज्‍य के किसी न किसी कोने में गया नहीं है और ये पिछले तीन साल से लगातार चल रहा था।

इतना ही नहीं, डोनर मंत्रालय दिल्‍ली में बैठ करके North-East का भला करने में लगा हुआ था। हमने कहा, किया-अच्‍छा किया; अब एक और काम करो। पूरा डोनर मंत्रालय हर महीना, उसका पूरा secretariat, North-East में आता है। अलग-अलग राज्‍यों में जाता है, वहां रुकता है, और North-East के विकास के लिए सरकार- भारत सरकार ने क्‍या करना चाहिए, मिल बैठ करके चर्चा हो करके ये योजना होती है, review होता है, मॉनिटरिंग होता है, accountability होती है, और उसके कारण transparency भी आती है, काम नीचे दिखाई देने लगता है। तो इस प्रकार से ये व्‍यवस्‍था जो खड़ी होती है, ये जो convention centre बना है, वो भारत सरकार की भी अनेक मीटिंगों के लिए एक नया अवसर ले करके आता है, और उसका भी लाभ होगा।

आज यहां पर एक मेडिकल कॉलेज, मेडिकल हॉस्पिटल; उसके शिलान्‍यास का मुझे अवसर मिला है। हमारे देश में आरोग्‍य के क्षेत्र में बहुत कुछ करने की हम आवश्‍यकता महसूस करते हैं। एक होता है human resource development, दूसरा होता है Infrastructure, तीसरा होता है most modern technology equipments; हम इन तीनों दिशाओं में health sector को ताकत देने की दिशा में काम कर रहे हैं।

हमारा एक सपना है कि हो सके उतना जल्‍दी हिन्‍दुस्‍तान में तीन parliament constituency के बीच में कम से कम एक बड़ा अस्‍पताल और एक अच्‍छी मेडिकल कॉलेज बन जाए। भारत में इतनी बड़ी मात्रा में मेडिकल कॉलेज बनेगी और वहीं का स्‍थानीय बच्‍चा, स्‍टूडेंट, अगर वहां मेडिकल कॉलेज में पढ़ता है तो वहां की बीमारियां, स्‍वाभाविक होने वाली बीमारियां, उसका उसको अता-पता होता है।

वो दिल्‍ली में पढ़ करके आएगा तो दूसरा सब्‍जेक्‍ट पढ़ेगा, और अरुणाचल की बीमारी कुछ और होगी। लेकिन अरुणाचल में पढ़ेगा तो उसको पता होगा कि यहां के लोगों को सामान्‍य रूप से ये चार-पांच प्रकार की तकलीफें होती हैं। इसके कारण treatment में एक qualitative सुधार आता है, क्‍योंकि human resource development में local touch होता है। और इसलिए हम medical education को दूर-दराज interior में ले जाना चाहते हैं। और दूसरा, जब वहीं पर वो मेडिकल कॉलेज में पढ़कर निकलता है तो बाद में भी वो वहीं रहना पसंद करता है, उन लोगों की चिंता करना पसंद करता है और उसके कारण उसकी भी रोजी-रोटी चलती है और लोगों को भी स्‍वास्‍थ्‍य की सुविधाएं मिलती हैं। तो मुझे खुशी है कि आज अरुणाचल प्रदेश में वैसे ही एक निर्माण कार्य का शिलान्‍यास करने का मुझे अवसर मिला है जिसका इसके लिए आने वाले दिनों में लाभ होगा।

भारत सरकार ने हर गांव में आरोग्‍य की सुविधा अच्‍छी मिले, उसको दूर-दराज तक, क्‍योंकि हर किसी को major बीमारी नहीं होती है। सामान्‍य बीमारियों की तरफ उपेक्षा का भाव, असुविधा के कारण चलो थोड़े दिन में ठीक हो जाएंगे, फिर इधर-उधर की कोई भी चीज ले करके चला लेना, और गाड़ी फिर निकल जाए फिर बीमार हो जाए, और गंभीर बीमारी होने तक उसको पता ही न चले। इस स्थिति को बदलने के लिए इस बजट में भारत सरकार ने हिन्‍दुस्‍तान की 22 हजार पंचायतों में, मैं आंकड़ा शायद कुछ मेरा गलती हो गया है; डेढ़ लाख या दो लाख; जहां पर हम wellness centre करने वाले हैं, wellness centre; ताकि अगल-बगल के दो-तीन गांव के लोग उस wellness centre का लाभ उठा सकें। और उस wellness centre से वहां पर minimum parameter की चीजें, व्‍यवस्‍थाएं, स्‍टाफ उपलब्‍ध होना चाहिए। ये बहुत बड़ा काम, ग्रामीण हेल्‍थ सेक्‍टर को इस बार बजट में हमने घोषित किया है। Wellness centre का, करीब-करीब हिन्‍दुस्‍तान की सभी पंचायत तक पहुंचने का ये हमारा प्रयास है।

और जो मैं 22 हजार कह रहा था, वो किसानों के लिए। हम आधुनिक मार्केट के लिए काम करने वाले हैं देश में ताकि अगल-बगल के 12, 15, 20 गांव के लोग, उस मंडी में किसान आ करके अपना माल बेच सकें। तो हर पंचायत में wellness centre और एक ब्‍लॉक में दो या तीन, करीब-करीब 22 हजार, किसानों के लिए खरीद-बिक्री के बड़े सेंटर्स; तो ये दोनों तरफ हम काम ग्रामीण सुविधा के लिए कर रहे हैं।

लेकिन इससे आगे एक बड़ा काम- हमारे देश में बीमार व्‍यक्ति की चिंता करने के लिए हमने कई कदम उठाए हैं, holistic कदम उठाए हैं, टुकड़ों में नहीं। जैसे- एक तरफ human resource development, दूसरी तरफ अस्‍पताल बनाना, मेडिकल कॉलेज बनाना, infrastructure खड़ा करना, तीसरी तरफ-आज गरीब को अगर बीमारी घर में आ गई, मध्‍यम वर्ग का परिवार हो, बेटी की शादी कराना तय किया हो, कार खरीदना तय किया हो; बस अगली दिवाली में कार लाएंगे-तय किया हो और अचानक पता चले कि परिवार में किसी को बीमारी आई है तो बेटी की शादी भी रुक जाती है, मध्‍यम वर्ग का परिवार कार लाने का सपना बेचारा छोड़ करके साइकिल पर आ जाता है और सबसे पहले परिवार के व्‍यक्ति की बीमारी की चिंता करता है। अब ये स्थिति इतनी महंगी दवाइयां, इतने महंगे ऑपरेशंस, मध्‍यम वर्ग का मानवी भी टिक नहीं सकता है।

इस सरकार ने विशेष करके, क्‍योंकि गरीबों के लिए कई योजनाएं हैं लाभप्रद, लेकिन मध्‍यम वर्ग के लिए असुविधा हो जाती है। हमने पहले अगर हार्ट की बीमारी होती है, स्‍टेंट लगाना होता था तो उसकी कीमत लाख, सवा लाख, डेढ़ लाख होती थी। और वो बेचारा जाता था, डॉक्‍टर को पूछता था कि साहब स्‍टेंट का, तो डॉक्‍टर कहता था ये लगाओगे तो डेढ़ लाख, ये लगाओ तो एक लाख। फिर वो पूछता था साहब ये दोनों में फर्क क्‍या है? तो वो समझाता था कि एक लाख वाला है तो पांच साल- साल तो निकाल देगा, लेकिन डेढ़ लाख वाले में कोई चिंता नहीं- जिंदगी भर रहेगा। तो अब कौन कहेगा कि पांच साल के लिए जीऊं कि जिंदगी पूरी करुं? वो डेढ़ लाख वाला ही करेगा।

हमने का भाई इतना खर्चा कैसे होता है? हमारी सरकार ने मीटिंगें की, बातचीत की, उनको समझाने का प्रयास किया। और मेरे प्‍यारे देशवासियो, मेरे प्‍यारे अरुणाचल के भाइयो-बहनों, हमनें स्टेंट की कीमत 70-80 percent कम कर दी है। जो लाख-डेढ़ लाख में थी वो आज आज 15 हजार, 20 हजार, 25 हजार में आज उसी बीमारी में उसको आवश्‍यक उपचार हो जाता है।

दवाइयां, हमने करीब-करीब 800 दवाइयां, जो रोजमर्रा की जरूरत होती है। तीन हजार के करीब अस्‍पतालों में सरकार की तरफ से जन-औषधालय परियोजना शुरू की है। प्रधानमंत्री भारतीय जन-औषधि परियोजना- PMBJP. अब इसमें 800 के करीब दवाइयां- पहले जो दवाई 150 रुपये में मिलती थी, वो ही दवाई, वो ही क्‍वालिटी सिर्फ 15 रुपये में मिल जाए, ऐसा प्रबंध करने का काम किया है।

अब एक काम किया है कि गरीब व्‍यक्ति इसके बावजूद भी, दस करोड़ परिवार ऐसे हैं कि बीमार होने के बाद न वो दवाई लेते हैं, न उनके पास पैसे होते हैं। और इस देश का गरीब अगर बीमार रहेगा तो वो रोजी-रोटी भी नहीं कमा सकता है। पूरा परिवार बीमार हो जाता है और पूरे समाज को एक प्रकार से बीमारी लग जाती है। राष्‍ट्र जीवन को बीमारी लग जाती है। अर्थव्‍यवस्‍था को रोकने वाली परिस्थिति पैदा हो जाती है।

और इसलिए सरकार ने एक बहुत बड़ा काम उठाया है। हमने एक आयुष्‍मान भारत- इस योजना और इसके तहत गरीबी की रेखा के नीचे जीने वाले जो परिवार हैं- उसके परिवार में कोई भी बीमारी आएगी तो सरकार उसका Insurance निकालेगी और पांच लाख रुपये तक- एक वर्ष में पांच लाख रुपये तक अगर दवाई का खर्चा हुआ तो वो पेमेंट उसको Insurance से उसको मिल जाएगा, उसको खुद को अस्‍पताल में एक रुपया नहीं देना पड़ेगा।

और इसके कारण प्राइवेट लोग अब अस्‍पताल बनाने के लिए भी आगे आएंगे। और मैं तो सभी राज्‍य सरकारों का आग्रह करता हूं कि आप अपने यहां health sector की नई policy बनाइए, प्राइवेट लोग अस्‍पताल बनाने के लिए आगे आएं तो उनको जमीन कैसे देंगे, किस प्रकार से करेंगे, कैसी पब्लिक-प्राइवेट पार्टनरशिप करें, उनको encourage करिए। और हर राज्‍य में 50-50, 100-100 नए अस्‍पताल आ जाएं, उस दिशा में बड़े-बड़े राज्‍य काम कर सकते हैं।

और देश के मेडिकल सेक्‍टर तो एक बहुत बड़ा revolution लाने की संभावना इस आयुष्‍मान भारत योजना के अंदर है और उसके कारण सरकारी अस्‍पताल भी तेज चलेंगे, प्राइवेट अस्‍पताल भी आएंगे और गरीब से गरीब आदमी को पांच लाख रुपया तक बीमारी की स्थिति में हर वर्ष, परिवार को कोई भी सदस्‍य बीमार हो जाए, ऑपरेशन करने की जरूरत पड़े, उसकी चिंता होगी। तो ये आज भारत सरकार ने बड़े mission mod में उठाया है। और आने वाले दिनों में इसका लाभ मिलेगा।

भाइयो, बहनों- आज मैं आपके बीच में आया हूं, तीन कार्यक्रम की तो आपको सूचना थी लेकिन एक चौथी सौगात भी ले करके आया हूं- बताऊं? और ये चौथी सौगात है नई दिल्‍ली से नहारलागोन एक्‍सप्रेस अब सप्‍ताह में दो दिन चलेगी और उसका नाम अरुणाचल एक्‍सप्रेस होगा।

आप अभी- हमारे मुख्‍यमंत्री जी बता रहे थे कि connectivity चाहे digital connectivity हो, चाहे air connectivity हो, चाहे रेल connectivity हो, चाहे रोड connectivity हो, हमारे नॉर्थ-ईस्‍ट के लोग इतने ताकतवर हैं, इतने सामर्थ्‍यवान हैं, इतने ऊर्जावान हैं, इतने तेजस्‍वी हैं, अगर ये connectivity मिल जाए ना तो पूरा हिन्‍दुस्‍तान उनके यहां आ करके खड़ा हो जाएगा, इतनी संभावना है।

और इसलिए, जैसे अभी हमारे मंत्रीजी, हमारे नितिन गडकरी जी की भरपूर तारीफ कर रहे थे। 18 हजार करोड़ रुपये के अलग-अलग प्रोजेक्‍ट इन दिनों अकेले अरुणाचल में चल रहे हैं, 18 हजार करोड़ रुपये के भारत सरकार के प्रोजेक्‍ट चल रहे हैं। चाहे रोड को चौड़ा करना हो, Four line करना हो; चाहे ग्रामीण सड़क बनाना हो, चाहे national highway बनाना हो, एक बड़ा mission mode में आज हमने काम उठाया है, Digital connectivity के लिए।

और मैं मुख्‍यमंत्रीजी को बधाई देना चाहता हूं। कुछ चीजें उन्‍होंने ऐसी की हैं जो शायद ये अरुणाचल प्रदेश दिल्‍ली के बगल में होता ना तो रोज प्रेमा खंडू टीवी पर दिखाई देते, सब अखबारों में प्रेमा खंडू का फोटो दिखाई देता। लेकिन इतने दूर हैं कि लोगों का ध्‍यान नहीं जाता। उन्‍होंने 2027- twenty-twenty seven, दस साल के भीतर-भीतर अरुणाचल कहां पहुंचना चाहिए, कैसे पहुंचना चाहिए- इसके लिए सिर्फ सरकार की सीमा में नहीं, उन्‍होंने अनुभवी लोगों को बुलाया, देशभर से लोगों को बुलाया, पुराने जानकार लोगों को बुलाया और उनके साथ बैठ करके विचार-विमर्श किया और एक blueprint बनाया कि अब इसी रास्‍ते पर जाना है और twenty-twenty seven तक हम अरुणाचल को यहां ले करके जाएंगे। Good Governance के लिए ये बहुत बड़ा काम मुख्‍यमंत्रीजी ने किया है और मैं उनको साधुवाद देता हूं, बधाई देता हूं, उनका अभिनंदन करता हूं।

दूसरा, भारत सरकार भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई लड़ रही है और मुझे खुशी है कि प्रेमा खंडुजी की तरफ से मुझे उस काम में भरपूर सहयोग मिल रहा है। Transparency, accountability, इस देश में संसाधनों की कमी नहीं है, इस देश में पैसों की कमी नहीं है। लेकिन जिस बाल्‍टी में पानी डालो, लेकिन बाल्‍टी के नीचे छेद हो तो बाल्‍टी भरेगी क्‍या? हमारे देश में पहले ऐसा ही चला है, पहले ऐसा ही चला है।

हमने आधार कार्ड का उपयोग करना शुरू किया, direct benefit transfer का काम किया। आप हैरान होंगे, हमारे देश में विधवाओं की जो सूची थी ना, widows की; जिनको भारत सरकार की तरफ से हर महीने कोई न कोई पैसा मिलता था, पेंशन जाता था। ऐसे-ऐसे लोगों के उसमें नाम थे कि जो बच्‍ची कभी इस धरती पर पैदा ही नहीं हुई, लेकिन सरकारी दफ्तर में वो widow हो गई थी और उसके नाम से पैसे जाते थे। अब बताइए वो पैसे कहां जाते होंगे? कोई तो होगा ना?

अब हमने direct benefit transfer करके सब बंद कर दिया और देश का करीब-करीब ऐसी योजनाओं में करीब-करीब 57 हजार करोड़ रुपया बचा है, बताइए, 57 हजार करोड़ रुपया। अब ये पहले किसी की जेब में जाता था अब देश के विकास में काम आ रहा है। अरुणाचल के विकास के काम आ रहा है- ऐसे कई कदम उठाए हैं, कई कदम उठाए हैं।

और इसलिए भाइयो-बहनों, आज मेरा जो स्‍वागत-सम्‍मान किया, मुझे भी आपने अरुणाचली बना दिया। मेरा सौभाग्‍य है कि भारत को प्रकाश जहां से मिलने की शुरूआत होती है, वहां विकास का सूर्योदय हो रहा है; जो विकास का सूर्योदय पूरे राष्‍ट्र को विकास के प्रकाश से प्रकाशित करेगा। इसी एक विश्‍वास के साथ मैं आप सबको बहुत बधाई देता हूं। आप सबका बहुत-बहुत धन्‍यवाद करता हूं।

मेरे साथ बोलिए- जय हिंद।

अरुणाचल का जय हिंद तो पूरे हिन्‍दुस्‍तान को सुनाई देता है।

जय हिंद – जय हिंद

जय हिंद – जय हिंद

जय हिंद – जय हिंद

बहुत-बहुत धन्‍यवाद।



***

Courtesy: pib.nic.in

Ministry of Railways directs Zonal Railways to discontinue pasting reservation charts on train coaches for 6 months starting from 1st March, 2018

Ministry of Railways has directed Zonal Railways to discontinue pasting of reservation charts on the reserved coaches of all trains at all...